मायूसी और दिल का **कनेक्शन** 💞

मायूसी और दिल का **कनेक्शन** 💞

रास्तो के सन्नाटों ने दिल मे,

     एक आहट सी जगाई ….

मुड़ के देखा तो सिर्फ,

     मायूसी ही पाई…

मायूसी का भी दिल से कितना,

    अजीब रिश्ता होता है…

कहना तो हम बहुत कुछ चाहते है,

    पर ये दिल सिसक-सिसक कर रोता है..

ये नाज़ुक सा दिल भी,

    कितना कुछ झेलता है…

पर जिसका भी मन करे बस,

    मेरे ही दिल से क्यों खेलता है??

अपने गमो को तो उन्होंने बाँट लिया,

     पर जब मेरी बारी आयी तो…

सबने अपना रास्ता नाप लिया!!

क्यों मै सभी को सिर्फ,

    काम के वक्त याद आती हूँ??

मै भी तो एक इंसान हूँ और,

   बहुत कुछ कहना चाहती हूँ..

ये ज़िन्दगी भी हमे किस,

     मोड़ पर ले आती है..

जहाँ से हर चीज़,

    बदलती हुई नज़र आती है…

इंसान को बदलने मे,

     देर ही कितनी लगती है..

कितना भी कुछ कर लो यार,

   अन्त मे सिर्फ बुराई ही मिलती है..

टाइम के साथ सब,

       बदल जाता है…

जिसको सबसे ज्यादा मानो,

      वो ही धोका दे जाता है..

खेर छोड़ो!!!मैंने शायद,

    ऐसी ही किस्मत पाई…

सबकी मदद करो और,

    अन्त में पाओ तो सिर्फ बुराई…

रास्तो के सन्नाटों ने,  

     दिल मे एक आहट सी जगाई…

मुड़ के देखा तो सिर्फ,

     मायूसी ही पाई…

– Sneha Saxena

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Sneha Saxena
Intern at Quaff media pvt ltd. I like to enjoy my life and express them via writting. singing&doing social work is my hobby and i enjoy doing it.

4 Comments

  1. Taiyab Khan

    Dekh teri masuyi meko ek baat yaad aai tu pgla gai h ye baat ek dam sach paai

    • Sneha Saxena

      hahahahaha pgla nhi gyi emotions m beh gyi likhne k liye emotions m ana pdta h taiyab 😀

Submit a Comment




  • You may also like