Dare to be different

Dare to be different
 
 

बेशक! तारो की भीड़ मे इक दिन चाँद अकेला भी था, और उसमें दाग भी
पर बन गया वो सबकी हसरत भी,और मिल गया उसे चकोर का साथ भी
 
 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Mohini Mishra
Technology is my passion, whereas literature is my love.
|| Chemical Researcher || IITian || Literature lover|| Avid reader|| soul of writer||

Submit a Comment




  • You may also like